Phd Kya Hai कैसे करें – पीएचडी से संबंधित पूरी जानकारी 2022

पीएचडी जोकि एकेडमिक परफॉर्मेंस को बेहतर बनाने के साथ ही डॉक्टरेट की डिग्री है। जिसे पूरा करने के बाद आप अपने नाम के पहले डॉक्टर लगा सकते हैं। आप किसी भी स्ट्रीम से पीएचडी कर सकते हैं। पीएचडी कैसे करें और पीएचडी करने के फायदे तथा PhD से जुड़ी प्रत्येक जानकारी यहां पर दी गई है।

Phd kya hai kaise kare

आप अपने पसंदानुसार विषय में पीएचडी कर सकते हैं। PhD कोर्स आमतौर पर 2 – 3 साल का होता है। परंतु इस कोर्स को पूरा करने के लिए अधिकतम 6 वर्ष का समय दिया जाता है। हालाँकि, PhD पाठ्यक्रम की अवधि एक संस्थान से दूसरे संस्थान में भिन्न हो सकती है।

इग्नू से बीएड करने के लिए क्वालिफिकेशन व इग्नू से बीएड कैसे करें

Phd ke liye qualification और पीएचडी करने के बाद सैलरी संबंधित जानकारी भी यहां पर दी गई है। साथ ही यह भी जानेंगे कि phd ki fees kitni hai? पीएचडी कैसे करें व किस विषय से करना ज्यादा फायदेमंद है, इस बारे में जानने से पहले विस्तार से समझते हैं कि पीएचडी क्या होता है?

PhD Kya Hai पूरी जानकारी

PhD का फुल फॉर्म Doctor of Philosophy होता है। यह एकेडमिक स्तर पर प्रदान की जाने वाली सर्वोच्च डिग्री होती है। UGC के नए नियमानुसार PhD कोर्स की न्यूनतम अवधि 2 वर्ष है। किसी विशेष विषय के साथ phd करने के बाद आप यूनिवर्सिटी/ कॉलेज में इस विषय के प्रोफेसर या लेक्चरर बन सकते हैं। इनके अलावा भी ऐसी बहुत सी जॉब प्रोफाइल होती हैं जिनमे PhD के बाद करियर बना सकते हैं।

PhD मुख्य रूप से रिसर्च पर आधारित होती है। आप जिस विषय से पीएचडी करते हैं उस सब्जेक्ट से संबंधित थीसिस तैयार करना होता है। यह सब प्रक्रिया यूनिवर्सिटी में मौजूद सुपरवाइजर (guide) की देखरेख में पूरी की जाती है। PhD प्रोग्राम फुल टाइम यानि रेगुलर और डिस्टेंस एजुकेशन दोनो प्रकार से किया जा सकता है। लेकिन यदि आप डिस्टेंस से पीएचडी करना चाहते हैं तो UGC की गाइडलाइंस को जरूर फॉलो करें।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? रखें इन बातों का ध्यान

PhD Ke Liye Qualification – पीएचडी के लिए योग्यता 2022-23

हाल ही में पीएचडी के लिए निर्धारित एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया में यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (UGC) द्वारा बहुत से बदलाव किए गए हैं। जोकि ज्यादातर यूनिवर्सिटी / कॉलेजों ने फॉलो करना शुरू कर दिया है। नई शिक्षा नीति के अंतर्गत पीएचडी में एडमिशन के लिए UGC द्वारा निर्धारित न्यूनतम योग्यता (PhD Ke Liye Qualification) के बारे में नीचे बताया गया है।

  • पीएचडी करने के लिए कंडीडेट न्यूनतम 55% अंको के साथ मास्टर डिग्री कोर्स किया होना चाहिए।
  • यूजीसी की नई गाइडलाइंस के अनुसार ऐसे स्टूडेंट्स भी पीएचडी कर सकते हैं, जिन्होंने 4 वर्ष का बैचलर डिग्री कोर्स रिसर्च के साथ न्यूनतम सीजीपीए 7.5/10 से किया हुआ है।
  • इसके अलावा 4 वर्ष के अंडरग्रेजुएट कोर्स के पश्चात 1 या 2 वर्ष के मास्टर डिग्री कोर्स (न्यूनतम 55% अंक) के बाद भी PhD मे एडमिशन ले सकते हैं।
  • M.Phil (न्यूनतम 55% अंक) के पश्चात भी पीएचडी में एडमिशन ले सकते हैं।
  • आरक्षित कैटेगरी के कंडीडेट को न्यूनतम परसेंटेज में 5% की छूट व न्यूनतम सीजीपीए में 0.5 की छूट दी जाती है।
  • इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी के फील्ड में पीएचडी करने के लिए GATE एग्जाम में मान्य स्कोर प्राप्त करने होते हैं।

ज्यादातर यूनिवर्सिटी राष्ट्रीय स्तर या यूनिवर्सिटी स्तर पर आयोजित प्रवेश परीक्षा के जरिए PhD में एडमिशन लेते हैं। इसके अलावा अलग अलग यूनिवर्सिटी में PhD ke liye qualification या एडमिशन क्राइटेरिया में भिन्नता हो सकती है। जिसके बारे में आप उस यूनिवर्सिटी की ऑफिशियल वेबसाइट या हेल्पलाइन नंबर से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। विभिन्न विषय के अनुसार भी एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया में अंतर हो सकता है।

PhD Kitne Saal Ka Hota Hai

पीएचडी कितने साल का कोर्स है? यह प्रश्न लगभग हर एक स्टूडेंट के मन आता है जो पीएचडी करना चाहते हैं। पीएचडी कोर्स की अवधि को लेकर ज्यादातर छात्रों के मन में कन्फ्यूजन होता है। तो आइए जानते हैं कि वास्तव में PhD kitne saal ka course होता है?

PhD कोर्स 3 से 6 वर्ष का होता है। यानि इस कोर्स की न्यूनतम अवधि 3 वर्ष होती है। जिसमे course work और रिसर्च दोनो शामिल है। अलग अलग यूनिवर्सिटी में पीएचडी कोर्स की अवधि भिन्न हो सकती है। इस कोर्स की अवधि विभिन्न फैक्टर्स पर निर्भर करती है। जैसे कि आपके द्वारा चयन किया गया इंस्टीट्यूट, पीएचडी में चयन किया गया विषय, रिसर्च पूरा करने में समय आदि।

PhD Ki Fees Kitni Hai – पीएचडी की फीस

किसी भी कॉलेज में पीएचडी की फीस बहुत से फैक्टर्स पर निर्भर करती है। सरकारी कॉलेज में PhD की फीस लगभग ₹20,000 से ₹60,000 तक हो सकती है। जबकि प्राइवेट कॉलेज में ₹30,000 से ₹1,50,000 तक हो सकती है।

बीएड (B.Ed) करने के फायदे, फीस व बीएड कोर्स की पूरी जानकारी

पीएचडी की फीस सबसे ज्यादा इन फैक्टर्स पर निर्भर करती है। कि आप किस कॉलेज से और किस स्पेशलाइजेशन से पीएचडी कर रहे हैं। रेगुलर पीएचडी कर रहे हैं या पार्ट टाइम पीएचडी। रेगुलर पीएचडी की फीस पार्ट टाइम पीएचडी की फीस से थोड़ा ज्यादा होती है। भारत के कुछ कॉलेज फीस के साथ बताए गए हैं।

  • आईआईटी बॉम्बे (IIT B) – लगभग ₹60,000
  • आईआईटी दिल्ली – लगभग ₹45,000
  • आईआईटी कानपुर – लगभग ₹65,000
  • यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली – लगभग ₹10,000
  • आईआईटी मद्रास – लगभग ₹20,000
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बैंगलोर
  • JNU दिल्ली
  • यूनिवर्सिटी ऑफ लखनऊ
  • यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद
  • बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी
  • यूनिवर्सिटी ऑफ इलाहाबाद
  • AIIMS दिल्ली

यदि आप अपने स्पेशलाइजेशन के लिए अपने ही राज्य में बेस्ट यूनिवर्सिटी जानना चाहते हैं। जहां से आप पीएचडी कर सकें। तो आप अपने राज्य और विषय (subject) का नाम कमेंट करें। जिससे हम आपके राज्य में ही आपके लिए बेस्ट यूनिवर्सिटी के बारे में आपको जानकारी दे सकें।

PhD Kaise Kare पूरी जानकारी

पीएचडी कैसे करें? पूरे स्टेप को समझने से पहले आप यह सुनिश्चित करें कि आप किस कॉलेज / यूनिवर्सिटी से पीएचडी करना चाहते हैं। यदि आप यह नहीं निर्धारित कर पा रहे हैं कि आपको किस यूनिवर्सिटी से पीएचडी करना चाहिए तो आप कमेंट के जरिए सलाह ले सकते हैं। आइए जानते हैं PhD Karne Ke Liye Kya Kare?

10वीं और 12वीं पास करें

10वीं के बाद अपने पसंदानुसार स्ट्रीम से 12वीं पास करें। कोशिश कीजिए 10वीं के बाद ऐसे विषय का चयन करें जिनमे आपका इंटरेस्ट हो और आप उसमे बेहतर कर सकें।

किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन पूरा करें

12वीं के बाद अपने इंटरेस्ट के विषय से ग्रेजुएशन पूरा करें। याद रहे आप जिस विषय से मास्टर डिग्री कोर्स करना चाहते हैं, वह विषय ग्रेजुएशन में जरूर होना चाहिए। हालांकि UGC के नए नियमानुसार 4 वर्ष के अंडरग्रेजुएट कोर्स में क्वालिफाइड स्कोर प्राप्त करने के बाद पीएचडी में एडमिशन ले सकते हैं।

मास्टर डिग्री कोर्स करें

अंडरग्रैजुएट कोर्स करने के पश्चात मास्टर डिग्री कोर्स करें। आप जिस विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन करेंगे उसी विषय से पीएचडी कर सकेंगे। पीएचडी के लिए मास्टर डिग्री कोर्स में न्यूनतम 55% अंक होने चाहिए। आरक्षित कैटेगरी के कंडीडेट के लिए 5% की छूट दी जाती है।

NET / JRF क्वालीफाई करें

किसी अच्छी यूनिवर्सिटी में एडमिशन के लिए NET/JRF जरूर क्वालीफाई करें। क्योंकि यूजीसी के नए नियमानुसार किसी भी यूनिवर्सिटी के एक वर्ष में PhD के लिए उपलब्ध कुल सीटों का 60% हिस्सा NET/ JRF क्वालिफाइड कंडीडेट द्वारा भरा जाता है। जबकि 40% सीटें यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के जरिए भरी जाती हैं।

यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा पास करें

यदि आप NET/ JRF क्वालीफाई किए बिना ही किसी यूनिवर्सिटी में एडमिशन लेना चाहते हैं। तो उस यूनिवर्सिटी द्वारा पीएचडी में एडमिशन के लिए आयोजित प्रवेश परीक्षा को पास करें। प्रवेश परीक्षा के अंतर्गत लिखित परीक्षा और इंटरव्यू दोनो हो सकता है।

पीएचडी में एडमिशन लें

प्रवेश परीक्षा पास करने के बाद मेरिट लिस्ट बनती है। जिसके जरिए पीएचडी में एडमिशन मिलता है। आप फुल टाइम पीएचडी या फिर पार्ट टाइम पीएचडी दोनो में से किसी भी प्रकार की पीएचडी में एडमिशन ले सकते हैं। बशर्ते इस बात का ध्यान रहे कि उस यूनिवर्सिटी द्वारा पार्ट टाइम पीएचडी की सुविधा उपलब्ध हो।

PhD Ke Liye Entrance Exam

UGC के नए नियमानुसार कोई भी यूनिवर्सिटी अपने यहां उपलब्ध 60% सीटों में NET/ JRF पास कंडीडेट का चयन करते हैं। जबकि 40 प्रतिशत पीएचडी की सीटों में यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के जरिए एडमिशन होता है।

यदि आपने NET/ JRF क्वालीफाई नही किया है परंतु आप पीएचडी करना चाहते हैं। तो यहां पर बताए गए एंट्रेंस एग्जाम के जरिए PhD में एडमिशन ले सकते हैं।

पीएचडी में एडमिशन के लिए प्रवेश परीक्षा

  • UGC NET
  • CSIR – UGC NET
  • UGC JRF
  • BHU RET
  • JNU Entrance Examination
  • IIT JAM
  • TISS – RAT
  • DUET
  • ICMR
  • AIIMS PhD Entrance Exam

PhD Me Admission Kaise Le एडमिशन प्रोसेस

किसी भी यूनिवर्सिटी से पीएचडी करने के लिए बेसिक एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को पूरा करना होगा। PhD मे एडमिशन मेरिट लिस्ट और एंट्रेंस एग्जाम दोनो प्रकार से होता है। इसके अलावा इंस्टीट्यूट / कॉलेज पर निर्भर करता है कि वे पीएचडी में एडमिशन कैसे लेते हैं?

ज्यादातर यूनिवर्सिटी UGC के नए नियमानुसार 60% सीटों में NET/ JRF क्वालिफाइड कंडीडेट का चयन करते हैं। जिसमे NET / JRF मे प्राप्त अंको और यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित इंटरव्यू के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार होती है और एडमिशन होता है। कुछ यूनिवर्सिटी में इंटरव्यू के बिना ही मेरिट लिस्ट बनती है।

इसके अलावा 40% सीटों में एडमिशन के लिए यूनिवर्सिटी स्तर पर एंट्रेंस एग्जाम आयोजित किए जाते हैं। प्रवेश परीक्षा में प्राप्त अंको और इंटरव्यू के आधार पर एडमिशन होता है। यह यूनिवर्सिटी पर निर्भर करता है कि इंटरव्यू 1 चरण में पूरा होगा या 2 चरण में। इसलिए किसी भी यूनिवर्सिटी में एडमिशन से पहले वहां पीएचडी में चयन प्रक्रिया को अच्छे से समझ लें।

पार्ट टाइम पीएचडी के लिए बेस्ट यूनिवर्सिटी / कॉलेज

फुल टाइम पीएचडी करने के बजाय आप अपनी जॉब के साथ साथ पीएचडी कर सकते हैं। पार्ट टाइम पीएचडी के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया फुल टाइम पीएचडी के जैसा ही है। पार्ट टाइम पीएचडी की अवधि भी 3 से 6 साल होती है। पार्ट टाइम पीएचडी के लिए कुछ बेस्ट कॉलेज बताए गए हैं।

  • जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी (JNU)
  • डॉ भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी
  • इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (IGNOU)
  • आईआईटी दिल्ली
  • आईआईटी कानपुर
  • Andhra University
  • BITS Pilani , राजस्थान
  • अमृता यूनिवर्सिटी

PhD Ke Subject in Hindi पीएचडी कोर्स

Phd me kon kon se subject hote hai? आप किसी भी स्ट्रीम से पीएचडी कर सकते हैं। बशर्ते आप जिस यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले रहे हैं वहां पर वह विषय उपलब्ध हो। यहां पर स्ट्रीम के अनुसार पीएचडी कोर्स सुझाए गए हैं। आप अपनी पसंद के विषय में पीएचडी कर सकते हैं। जिसके बाद बेहतरीन करियर बना सकते हैं।

साइंस स्ट्रीम में बेस्ट पीएचडी कोर्स

  • पीएचडी इन फिजिक्स
  • पीएचडी इन केमिस्ट्री
  • पीएचडी इन मैथमेटिक्स
  • पीएचडी इन बायोसाइंस
  • पीएचडी इन क्लिनिकल रिसर्च
  • पीएचडी इन बायोटेक्नोलॉजी
  • पीएचडी इन जूलॉजी
  • पीएचडी इन बायो इनफॉर्मेटिक
  • पीएचडी इन एनवायरोमेंटल साइंस एंड इंजीनियरिंग

ह्यूमैनिटी में बेस्ट पीएचडी कोर्स

  • पीएचडी इकोमिक्स
  • पीएचडी इन ह्यूमैनिटी
  • पीएचडी इन जियोग्राफी
  • पीएचडी इन इंग्लिश
  • पीएचडी इन साइकोलॉजी
  • पीएचडी इन फिजियोलॉजी
  • पीएचडी इन आर्ट्स
  • पीएचडी इन सोशल वर्क
  • पीएचडी इन पब्लिक पॉलिसी

इंजीनियरिंग में बेस्ट पीएचडी कोर्स

  • पीएचडी इन सिविल इंजीनियरिंग
  • पीएचडी इन इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी
  • पीएचडी कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग
  • पीएचडी इन इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी
  • पीएचडी इन केमिकल इंजीनियरिंग
  • पीएचडी इन मैकेनिकल इंजीनियरिंग
  • पीएचडी इन इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग

बिजनेस और मैनेजमेंट में बेस्ट पीएचडी कोर्स

  • पीएचडी इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन
  • पीएचडी इन मैनेजमेंट
  • पीएचडी इन कॉमर्स
  • पीएचडी इन मार्केटिंग / ब्रांड मैनेजमेंट
  • पीएचडी इन अकाउंटिंग एंड फाइनेंशियल मैनेजमेंट

मेडिकल में बेस्ट पीएचडी कोर्स

  • पीएचडी इन फिजियोलॉजी
  • पीएचडी इन पैरामेडिकल
  • डॉक्टरेट ऑफ मेडिसिन (कार्डियोलॉजी)
  • पीएचडी इन मेडिसिन
  • पीएचडी इन रेडियोलॉजी
  • पीएचडी इन मेडिकल फिजिक्स
  • पीएचडी इन पैथोलॉजी
  • पीएचडी इन न्यूरोसाइंस
  • डॉक्टर ऑफ मेडिसिन इन होम्योपैथी

यहां पर बताए गए कोर्सेज के अलावा भी ऐसे बहुत से बेस्ट कोर्स हैं जिनके बाद बेहतर करियर बना सकते हैं। मेडिकल फील्ड, लॉ (law), एग्रीकल्चर, कॉमर्स आदि में बहुत से बेस्ट पीएचडी कोर्स हैं। पीएचडी उसी विषय से करें जिसमे आपका इंटरेस्ट हो। क्योंकि पीएचडी करना उतना आसान नहीं है जितना आसान हम समझते हैं।

पीएचडी करने के बाद सैलरी

पीएचडी करने के बाद बाद शुरुआत में औसतन सैलरी 5 लाख रुपए से 8 लाख रुपए प्रति वर्ष होती है। PhD के बाद सैलरी आपके स्पेशलाइजेशन और जॉब प्रोफाइल पर निर्भर करती है। अलग अलग स्पेशलाइजेशन से पीएचडी कोर्स करने पर सैलरी पैकेज में भी भिन्नता होती है। एक्सपीरियंस के साथ सैलरी भी बढ़ती है।

  • लेक्चरर – 4 से 8 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • प्रोफेसर – 6 से 18 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • मैथमेटिशियन – 3 से 10 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • साइंटिस्ट – 4 से 8 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • इकोनॉमिस्ट – 6 से 14 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • जियोलॉजिस्ट – 6 से 20 लाख रुपए प्रति वर्ष
  • Statistician – 4 से 7 लाख रुपए प्रति वर्ष

पीएचडी करने के फायदे

पीएचडी करने के बहुत ज्यादा फायदे होते हैं। पीएचडी के बाद एक बेहतरीन जॉब प्रोफाइल के साथ साथ बेहतरीन सैलरी पैकेज भी मिलता है। यहां पर पीएचडी के कुछ फायदे बताए गए हैं।

  • पीएचडी करने के बाद सिर्फ एकेडमिक स्तर की जॉब प्रोफाइल के अलावा पब्लिक सेक्टर, रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेक्टर और कॉरपोरेट सेक्टर में भी करियर ऑपर्च्युनिटी होती हैं।
  • पीएचडी करते समय आप अपने विषय में रिसर्च करते हैं। आपको उस फील्ड में थियोरेटिकल नॉलेज के साथ साथ प्रैक्टिकल नॉलेज भी होता है। जिस वजह से किसी भी सेक्टर या कंपनी में आपके जॉब के बहुत ज्यादा अवसर होता है।

PhD ke liye NET jaruri hai kya?

पीएचडी के लिए NET जरूरी नही है। आप यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित एंट्रेंस एग्जाम के जरिए भी एडमिशन ले सकते हैं। जिसमे इंटरव्यू भी शामिल हो सकता है। हालांकि UGC के नियमानुसार ज्यादातर यूनिवर्सिटी अपने यहां उपलब्ध सीटों का 60 प्रतिशत NET/ JRF क्वालीफाई किए हुए कंडीडेट का चयन करते हैं। और 40 प्रतिशत सीटों में यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के जरिए चयन करते हैं।

इग्नू से पीएचडी कैसे करे?

इग्नू से पीएचडी करने के लिए सबसे पहले पीएचडी के लिए बेसिक एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को पूरा करें। मास्टर डिग्री कोर्स में न्यूनतम 55% अंक होने चाहिए। इसके अलावा IGNOU द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर पीएचडी के लिए आयोजित एग्जाम क्वालीफाई करना होता है। इन सभी क्राइटेरिया के अलावा विशेष विषय के लिए भी कुछ कंडीशन हो सकती हैं जिन्हे पूरा करना होता है।

क्या b.ed के बाद पीएचडी कर सकते हैं?

नही, b.ed के तुरंत बाद आप पीएचडी नही कर सकते हैं। पीएचडी करने के लिए मास्टर डिग्री कोर्स न्यूनतम 55% अंको के साथ किया होना चाहिए। इसके अलावा पीएचडी के लिए निर्धारित अन्य एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को भी पूरा करना होता है।

हिंदी में पीएचडी के लिए न्यूनतम योग्यता क्या है?

हिंदी में पीएचडी करने के लिए आपको ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन हिंदी विषय के साथ करना होगा। पोस्ट ग्रेजुएशन में न्यूनतम 55% अंक होने चाहिए। आरक्षित कैटेगरी के कंडीडेट को 5% की छूट दी जाती है। इसके बाद NET क्वालीफाई करें या यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित एंट्रेंस एग्जाम के जरिए पीएचडी में एडमिशन लें।

1 thought on “Phd Kya Hai कैसे करें – पीएचडी से संबंधित पूरी जानकारी 2022”

  1. Nirwan University, Jaipur (NUJ) has a strong commitment to high quality research and aims to enhance the professional competence of the scholars. The University offers Ph.D. (Doctor of Philosophy) Programme to the eligible scholars, who are interested in doing research. Every candidate is expected to follow the procedures laid down for fulfilling the requirements of Ph.D. Programme of the University & University Grant Commission (UGC).

    Reply

Leave a Comment